संस्थाओं के प्रकार अमेरिका में

उदारवादी कला कॉलेज

एक उदारवादी कला कॉलेज वह है जिसमें प्राथमिक रूप से स्नातक की पढ़ाई में उदारवादी कला और विज्ञान पर जोर दिया जाता है।

उदारवादी कला के छात्र आमतौर परअपना अध्ययनएक विशेष क्षेत्रमेंकेंद्रित रखते हैं। जबकि इस दौरान वे विज्ञान से लेकर मानविकी के विषयों की पढ़ाई कर अकादमिक विषयों की विस्तृत जानकारी भी प्राप्त करते हैं।

एनसाइक्लोपिडिया ब्रिटानिकाके मुताबिक उदारवादी कला ‘विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम का प्रयोजन छात्रों में सामान्य ज्ञान प्रदान करने के साथ उनकी बौद्धिक क्षमता का विस्तार करना भी है जो पेशेवर, व्यावसायिक या तकनीकी पाठ्यक्रम के विपरीत है।‘ उदारवादी कला संस्थान निजी और सरकारी दोनों हो सकते हैं।

निजी विश्वविद्यालय

निजी विश्वविद्यालय वैसे विश्वविद्यालय होते हैं जो सरकार द्वारा संचालित नहीं होते हैं। हालांकि इनमें से कई सरकार से पैसा लेते हैं, विशेष रूंप से टैक्स में छूट, सरकारी छात्र ऋण और अनुदान के रूप में।वे पूर्व छात्रों से मिलने वाले दान, शोध अनुदान, और शिक्षण शुल्क के माध्यम से निजी वित्तीय सहायता भी प्राप्त करते हैं।अमेरिकी छात्रों में अपने तकनीकी संसाधनों, अनुसंधान सुविधाओं और छोटी क्लास होने के निजी संस्थान काफी लोकप्रिय हैं।निजी विश्वविद्यालय अपने अकादमिक क्षेत्र की जानी मानी शख्सियतों को आकर्षित करने और उन्हें अपने यहां बनाए रखने में सक्षम होते हैं।
इन संस्थानों में पढ़ाई-लिखाई को क्लास रूप से बाहर तमाम गतिविधियों द्वारा अधिक समृद्ध बनाया जाता है।
निजी विश्वविद्यालयों के कैंपस में असामान्य व अभिनव अकादमिक कार्यक्रम भी लगातार होते रहते हैं।
संयुक्त राज्य अमेरिका में उच्च शिक्षा के कुछ सबसे प्रतिस्पर्धी और चुनिंदा संस्थान निजी हैं।
उदाहरण के लिए, यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट की रैंकिंग के मुताबिक2012 के लिए अमेरिका के शीर्ष दस विश्वविद्यालय (क्रमानुसार) ये हैं-
उदाहरण के लिए, यूएस न्यूज एंड वर्ल्ड रिपोर्ट की रैंकिंग के मुताबिक2012 के लिए अमेरिका के शीर्ष दस विश्वविद्यालय (क्रमानुसार) ये हैं- हार्वर्ड विश्वविद्यालय, प्रिंसटन विश्वविद्यालय, येल विश्वविद्यालय, कोलंबिया विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान, मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, शिकागो विश्वविद्यालय, पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय और ड्यूक विश्वविद्यालय।

सार्वजनिक विश्वविद्यालय

सार्वजिनक संस्थान,जिन्हें अक्सर राज्य विश्वविद्यालय के रूप में जाना जाता है इन्हें राज्य और/या संघीय सरकार से आर्थिक सहायता मिलती है। हालांकि शिक्षण राजस्व और निजी धन भी इनकी वित्तीय स्थिरता में योगदान देते हैं।
ये संस्थान राज्यव्यापी प्रवेश मानकों का पालन कर सकते हैं या इनकी अपनी निजी आवश्यकताएं भी हो सकती हैं।
आमतौर पर राज्य विश्वविद्यालयों के शिक्षण कर्मियों के लिए संकाय शोध अनुदान महत्वपूर्ण होते हैं और आपको व्यावहारिक अनुसंधान के तमाम अवसर मुहैया कराते हैं।
इन सरकारी विश्वविद्यालयों में काफी बड़े-बड़े विभाग होते हैं जो डिग्री के अनेक विकल्प पेश करते हैं।
सरकारी या राज्य के विश्वविद्यालय आमतौर पर निजी संस्थानों की तुलना में कम महंगे होते हैं, इसके बावजूद वहां सीखने के असाधारण अवसर होते हैं।

शीर्ष पर लौटें